FRENZ 4 EVER

Shayari, FREE cards, Masti Unlimited, Fun, Jokes, Sms & Much More...

Frenz 4 Ever - Masti Unlimited

Hi Guest, Welcome to Frenz 4 Ever

Birthday Wishes : Many Many Happy Return Of The Day : ~ Harini, Mim2007, Mishra808, Simply_deepali.
Thought of The Day: "Be wise enough to walk away from the nonsense around you."

Maa.................

Share
avatar
SourabhBasak
Administrator
Administrator

Member is :
Online
Offline


Male

Capricorn Pig

Posts : 5393
I LiveHyderabad

Job/hobbies : Storage Administrator
KARMA : 197
Reward : 613

Mood : crafty

F4e Status : Gham-e-Hayat ki tashreeh aur kya hogi,
Diya jalakar tarasta hu Roshni ke liye..

Maa.................

Post by SourabhBasak on Sat Nov 15, 2008 11:28 am

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है।
अभी ज़िंदा है माँ मेरी, मुझे कुछ भी नहीं होगा
मैं घर से जब निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है
जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है
ऐ अंधेरे देख ले मुंह तेरा काला हो गया
माँ ने आँखें खोल दी घर में उजाला हो गया
लबों पर उसके कभी बददुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो मुझसे खफ़ा नहीं होती
मुनव्वर माँ के आगे यूँ कभी खुलकर नहीं रोना
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती


_________________________
avatar
Guest
Guest

Re: Maa.................

Post by Guest on Sat Nov 15, 2008 10:52 pm

sourabhbasak wrote:
इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है।
अभी ज़िंदा है माँ मेरी, मुझे कुछ भी नहीं होगा
मैं घर से जब निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है
जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है
ऐ अंधेरे देख ले मुंह तेरा काला हो गया
माँ ने आँखें खोल दी घर में उजाला हो गया
लबों पर उसके कभी बददुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो मुझसे खफ़ा नहीं होती
मुनव्वर माँ के आगे यूँ कभी खुलकर नहीं रोना
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती


AWESUM..........
avatar
SourabhBasak
Administrator
Administrator

Member is :
Online
Offline


Male

Capricorn Pig

Posts : 5393
I LiveHyderabad

Job/hobbies : Storage Administrator
KARMA : 197
Reward : 613

Mood : crafty

F4e Status : Gham-e-Hayat ki tashreeh aur kya hogi,
Diya jalakar tarasta hu Roshni ke liye..

Re: Maa.................

Post by SourabhBasak on Sat Nov 29, 2008 11:22 am

Thanks a lot bhai for appreciations thankyou yes boss


_________________________

Sponsored content

Re: Maa.................

Post by Sponsored content


    Current date/time is Tue Oct 24, 2017 1:25 pm