FRENZ 4 EVER

Shayari, FREE cards, Masti Unlimited, Fun, Jokes, Sms & Much More...

Frenz 4 Ever - Masti Unlimited

Hi Guest, Welcome to Frenz 4 Ever

Birthday Wishes : Many Many Happy Return Of The Day : ~ Harini, Mim2007, Mishra808, Simply_deepali.
Thought of The Day: "Be wise enough to walk away from the nonsense around you."

Brahmgyaan

Share
avatar
kaash
Member
Member

Member is :
Online
Offline


Male

Gemini Monkey

Posts : 349
Job/hobbies : shayri,music
KARMA : 0
Reward : 11

Mood : artistic

Brahmgyaan

Post by kaash on Fri Jan 14, 2011 3:53 pm



मानव जीवन में सबसे आवश्यक आत्मज्ञान पाना है
आत्मज्ञान के बिना ये जीवन हमारा निरर्थक हो जाना है
व्यक्ति पुण्यों के फलस्वरुप या फिर जिज्ञासा वश ही
आत्मज्ञान की तरफ उन्मुख होता है दुःख के वश भी
दुःख से दुखी होना ये आत्मा की नहीं मानव की दुर्बलता है
भावुक होना तो हकीकत में आदमी की सफलता सबलता है
चाहे जो भी कारन हों आत्मज्ञान के बाद शेष नहीं रहता
व्यक्ति को कुछ जानना और न ही पाना उसे सब है मिल जाता
आत्मज्ञान परमतत्व परमज्ञान बड़ी तपस्या से मिलता
ये सत्संग,महापुरषों के शांत वचनों से ह्रदय में उतरता
तरह तरह की साधना,योग,ध्यान,भक्ति के द्वारा मिलता ये
इस ब्रह्मज्ञान को पाने के बाद पाने वाले का पतन नहीं होने देता ये
परमज्ञान ही ज्ञान है और ज्ञान कुछ नहीं होता
सांसारिक ज्ञान कैसा ज्ञान जब संसार नाशवान होता
येही ज्ञान है की हम सब चिन्मय तत्त्व आत्मा है
येही ज्ञान है की हम सब एक परमात्मा के अंश हैं
दुनिया भ्रम है जो हमारे आँख बंद करते ही दिखाई नहीं पड़ती
परमपिता परमेश्वर से बनी ये उसी में है आखिर समां जानी
इसलिए व्यक्ति को चाहिए की वो समझे की वो देह नहीं देही है
शरीर को आनंद देना बेकार है क्यूंकि वो शरीर नहीं शरीरी है
संसार और संसार में आनंद ढूंढना मिथ्या है
आनंद सिर्फ परमात्मा में है येही शाश्वतता है
विषय विकारों वस्तुवादिता वासना से ऊपर उठकर ही हम
जगत के कार्य करते हुए सदा ब्रह्मनिष्ठ रह पते हम
अपने आप में अपने आप द्वारा स्थित होना ही योग है
व्यक्ति का उसके तथा प्रभु के इलावा होता नहीं कोई और है
क्यूंकि चराचर जगत वो जो देख रहा है स्वप्न है
हर द्रश्य हर मंज़र सिवाय प्रभु के कुछ नहीं है
नाहक ही माया मोह में खिचता है और दुःख प्राप्त होता है
परन्तु ब्रह्मज्ञानी हर अवस्था में सम रहता है
वो जानता है की करता कर्म करक सबकुछ प्रभु हैं
करने वाला एक परमेश्वर हैं हम कुछ कर सकते नहीं है
अपने कर्मो को करता हुआ वो मन से कोई संकल्प नहीं लेता है
संकल्प ना लेने के कारन वो कर्मो का संस्कार नहीं पाता है
ये संस्कार यानी इक्छायें ही व्यक्ति के वास्तविक सुख की हेतु हैं
एक एक इक्छा हज़ार इक्छा को जन्म देती और बढाती है
जब तक आत्मा अज्ञान में रह बुद्धि, मन,इन्द्रियों से घिरी है
सांसारिक सुखों में ही वास्तविक सुख समझ भटकती है
सच्चाई ये है की हर दिन हमे 84600 सेकंड्स सिर्फ प्रभु देता है
समय तेज़ी से बीत रहा है बंदा मुझे सुमिरे वो बन्दों को सुमिरता है
मुमुक्छा ,जीवन्मुक्तता को प्राप्त हुआ ये सब समझता है
प्रत्येक कर्म को निष्काम भाव और प्रभु को समर्पित करके करता है

संकल्प ना लेने के कारन वो कर्मो का संस्कार नहीं पाता है
इस तरह से उसे सुख दुःख व्याप्त होके भी व्याप्त नहीं होते
वो हर आदमी हर मंज़र में प्रभु को प्रभु की मैहर देखता है
किंचित मात्र भी कहीं उसे कुछ ग़लत नहीं दीखता वो सब अच्छा मानता है

इस्थित्प्रग्यता को स्वता प्राप्त हुआ आत्मज्ञानी शान्ति की राशि होता है
सदा ही समावस्था को प्राप्त हुआ वो सर्वत्र परम शान्ति परमानन्द देखता है



Manav jeevan me sabse aawashyak aatmgyaan pana hai
Aatmgyaan ke bina ye jeewan hamara nirarthak ho jana hai
vyakti punyon ke phal swaroop ya phir jigyasaa wash hi
aatmgyaan ki taraf unmukh hota hai dukh ke wash bhi
dukh se dukhi hona ye aatma ki nahi manav ki durbalta hai
bhavuk hona to hakeekat me aadmi ki safalta sabalta hai
chahe jo bhi karan hon aatmgyaan ke baad shesh nahi rahta
vyakti ko kuch jaanna aur na hi pana use sab hai mil jata
aatmgyaan paramtatva paramgyaan badi tapasya se milta
ye satsang,mahapuroshon ke vachan se hriday me utarta
tarah tarah ki saadhna,yog,dhyaan,bhakti ke dwara milta ye
is brahmgyaan ko pane ke baad pane vale ka patan nahi hone deta ye
paramgyaan hi gyaan hai aur gyaan kuch nahi hota
sansarik gyaan kaisa gyaan jab sansaar naashwan hota
yehi gyaan hai ki hum sab chinmay tatva aatma hai
yehi gyaan hai ki hum sab ek paramaatma ke ansh hain
dunia bhram hai jo hamare aankh band karte hi dikhai nahi padti
parampita parmeshwar se bani ye usi me hai aakhir sama jani
islie vyakti ko chahiye ki vo samjhe ki vo deh nahi dehi hai
shareer ko anand dena bekaar hai kyunki vo shareeri hai
sansaar aur sansaar me anand dhoondhna mithya hai
anand sirr parmaatma me hai yehi shaashwat satya hai
wishay vikaaron vastuvadita vaasna se upar uthkar hi hum
jagat ke kaarya karte hue sada brahmnishtha rah pate hum
apne aap me apne aap dwara isthit hona hi yog hai
vyakti ka uske wa prabhu ke ilawa hota nahi koi aur hai
kyunki charachar jagat vo jo dekh raha hai swapn hai
har dradhya har manzar sivaay prabhu ke kuch nahi hai
nahak hi maya moh me khichta hai aur dukh praapt hota hai
parantu brahmgyaani har awastha me sam rahta hai
vo jaanta hai ki karta karm karak sabkuch prabhu hain
karne vala ek parmeshwar hain hum kuch kar sakte nahi hai
apne karmo ko karta hua vo man se koi sankalp nahi leta hai
sankalp na lene ke karan vo karmo ka sanskaar nahi pata hai
ye sanskaar yani ikchhayen hi vyakti ke vaastavik sukh ki hetu hain
ek ek ikchha hazaar ikchha ko janm deti aur badhati hai
jab tak aatma agyaan me rah budhi man,indriya se ghiri hai
sansarik sukhon me hi vaastavik sukh samajh bhatakti hai
sachhai ye hai ki har din hume 84600 seconds sirf prabhu deta hai
samay tezi se ghat raha hai banda mujhe sumire vo bandon ko sumirta hai
mumukchha,jeevanmukttata ko praapt hua ye sab samajhta hai
pratyek karm ko nishkaam bhaw aur prabhu ko samarpit karke karta hai
is tarah se use such dukh vyaapt hoke bhi vyaapt nahi hote
vo har vyakti har aadmi har manzar me prabhu ko prabhu ki meher dekhta hai
kinchit maatra bhi kahin use kuch ghalat nahi dikhta vo sab acha manta hai
isthitpragyata ko swata praapt hua aatmgyaani shaanti ki raashi hota hai
sada hi samawastha ko praapt hua vo sarvatra paramshanti paramanand dekhta hai


avatar
Guest
Guest

Re: Brahmgyaan

Post by Guest on Fri Jan 14, 2011 7:36 pm

bhot khub kaas... carry on Thums up
avatar
kaash
Member
Member

Member is :
Online
Offline


Male

Gemini Monkey

Posts : 349
Job/hobbies : shayri,music
KARMA : 0
Reward : 11

Mood : artistic

Re: Brahmgyaan

Post by kaash on Fri Jan 21, 2011 3:44 pm

thanks Raj sunny,yaar baki dost kahan hain??
bade din se koi nazar nahi aaya cry

Sponsored content

Re: Brahmgyaan

Post by Sponsored content


    Current date/time is Thu Oct 19, 2017 9:11 am