FRENZ 4 EVER

Shayari, FREE cards, Masti Unlimited, Fun, Jokes, Sms & Much More...

Frenz 4 Ever - Masti Unlimited

Hi Guest, Welcome to Frenz 4 Ever

Birthday Wishes : Many Many Happy Return Of The Day : ~ Harini, Mim2007, Mishra808, Simply_deepali.
Thought of The Day: "Be wise enough to walk away from the nonsense around you."

~* Sapne *~

Share
avatar
Guest
Guest

~* Sapne *~

Post by Guest on Sun Nov 01, 2009 12:55 am



कुछ सपनों को जो पंख दिए,
वो खुले आसमान में उड़ने लगे,
बादलों की छांव मिले,
तो कभी तारों की महफिल सजी।
नरम-नरम हवा के पालनों में पलने लगे,
कोरे-कोरे ये सपने रंगों से खेलने लगे,
सुनहरी धूप की धागों से एक नया जहाँ बुनते हुए,
बिखरे-बिखरे यह सपने अपने-आप में ही सिमटने लगे।
लम्बी-लम्बी राहों पर नन्हें-नन्हें कुछ कदम,
मासूम यह सपने मंज़िल की तलाश में चल पड़े.
दीपक की लौ में सूरज की रोशनी नहीं मिली,
तो थककर यह सपने उसी लौ में जलने लगे।
वक्त आगे निकल गया, सपने पीछे छूट गए,
कुछ ठहर गए, कुछ टूट गए, कुछ खुद पर ही हंसने लगे,
ज़िन्दगी के दांव में, खुद ज़िन्दगी को हार के,
अब इन अधूरे सपनो के सौदे होने लगे।
चलते-चलते खो गये, अपनी ही धड़कन से दूर हो गए,
पीछे मुड़े तो दिखा कहानी बनके बिकता अपना ही चहरा,
फिर भी रुका नहीं सांसों और धड़कनों का यह सुस्त कारवां
क्यूंकि टिमटिमा रहा था अभी भी एक सपना सितारा बन के।


avatar
Daisy
Grafik Moderator
Grafik Moderator

Member is :
Online
Offline


Female

Virgo Cat

Posts : 3566
I Live

Job/hobbies : Like music
KARMA : 167
Reward : 744

Mood : springy

Re: ~* Sapne *~

Post by Daisy on Sun Nov 01, 2009 3:52 pm

wah wah bohat khoob baba... Thums up


_________________________
avatar
Guest
Guest

Re: ~* Sapne *~

Post by Guest on Sun Nov 01, 2009 4:36 pm

Thanx 4 apprecitaing Daiz

Sponsored content

Re: ~* Sapne *~

Post by Sponsored content


    Current date/time is Sat Aug 19, 2017 5:18 am